ब्यूटी पार्लर के लिए वास्तु टिप्स ( Vastu Tips for Beauty Parlor)

  1. ब्यूटी पार्लर का मुख्य द्वार(Main Gate) उत्तर, ईशान कोण या पूर्व में होना अच्छा होता है। यद्यपि की दक्षिण या पश्चिम में भी बनाया जा सकता है।
  2. रिसेप्शन काउंटर इस प्रकार बनाये की रिसेप्सनिस्ट का मुख हमेशा ईशान, पूर्व या उत्तर में हो।
  3. दर्पण दिशा(direction of mirror) को उत्तर, पूर्व या उत्तर और पूर्व दोनों में लगाना चाहिए।
  4. मुख्य प्रवेश द्वार पर अंदर की ओर गणपति की मूर्ति स्थापित करनी चाहिए।
  5. वाश बेशिन(Wash Basin) उत्तर, इशानकोण (North-East) या पूर्व दिशा में लगाना चाहिए ।
  6. कैश काउन्टर(Cash Counter) इस प्रकार रखें की खोलने पर उसका मुख उत्तर तथा पूरब दिशा में खुले।
  7. कैश काउन्टर के आस पास मछली घर रखने से धन की वृद्धि होती है।
  8. मुख्य ब्यूटीशियन(Head Beautician) को इस प्रकार बैठना चाहिए कि उसका मुंह उत्तर या पूर्व की ओर रहे। नैऋत्य(पश्चिम-दक्षिण) में नहीं बैठना चाहिए।
  9. आग्नेय कोण(पूर्व-दक्षिण) में बिजली के स्विच व उपकरण होना चाहिए।
  10. स्टीम बाथ (steam Bath) तथा पेंट्री को आग्नेय कोण में बनाएं।
  11. ब्यूटी पार्लर के आग्नेय कोण में हमेशा एक केंडल(Candle) या लाल बल्ब (Red Light) जलाकर रखना चाहिए इससे सकारात्मक ऊर्जा बढ़ती है तथा कारीगरों में कार्य करने की क्षमता बढ़ जाती है।
  12. थ्रेडिंग, वैक्सिंग, पेडीक्योर, मैनी क्योर, हेयर कटिंग, मेहंदी, कलरिंग, ट्रिमिंग आदि कार्य आग्नेय कोण (पूर्व-दक्षिण) में करें।
  13. सभी सौंदर्य प्रसाधन (All beauty product) को पश्चिम दिशा में रखें।
  14. शौचालय (Wash-Room) दक्षिण या पश्चिम दिशा में ही बनाएं।
  15. ग्राहकों को सदैव वायव्य कोण(उत्तर-पश्चिम) में बैठाना चाहिए।
  16. दीवारों व पर्दों का रंग हल्का गुलाबी, नारंगी, आसमानी और हल्का बैंगनी होना चाहिए।
  17. फिजीकल फिटनेस के लिए कोई मशीन, उपकरण आदि हो तो उन्हें नैऋत्य कोण (पश्चिम-दक्षिण) में लगाएं।
  18. मालिक  नैऋत्य कोण में इस प्रकार बैठे की बैठने पर उसका मुख उत्तर या पूर्व की ओर हो।
  19. पार्लर का नाम किसी स्त्रीलिंग शब्द से रखना चाहिए।
  20. तौलिया(Towels) का प्रयोग सफेद अथवा हल्का गुलाबी रंग का ही करना चाहिए।
  21. कूड़े-कचड़े को नैऋत्य(South-West) कोण में रखें।